मिस्ड कॉल नंबर: 84079 70909

उभरते उद्योग

फूड प्रोसेसिंग, डेरी उत्पाद, मशरूम की खेती, औषधि निर्माण, पौधा रोपण, उत्पादन, प्रसंस्करण, हस्तशिल्प, पर्यटन व्यवसाय से जुड़े तरह-तरह के कार्य, आईटी से जुड़े कार्य, कल पुर्जों व अन्य कई तरह के उद्योग हैं जो यहाँ पनप रहे हैं और जिनका लाभ उठाया जा सकता है।

औद्योगीकरण के बिना क्षेत्र का विकास अधूरा है। उत्तराखण्ड यह भली-भाँति समझता है, किन्तु पहाड़ी, सीमावर्ती, दुरूह परिस्थितियों वाली भौगोलिक स्थिति यहाँ बड़े उद्योग नहीं लगाने देती तो क्या? हम अन्य कई तरह के उद्योगों पर अपना ध्यान केन्द्रित कर सकते हैं। दुनिया में कितने ही देश, राज्य, स्थान हैं जहाँ कोई न कोई बाधा है फिर भी वे अपने आप में समृद्ध और औद्योगीकृत हैं। हम भी असीमित संभावनाएं समेटे बैठें हैं। हम भी कई तरह के लघु, कुटीर और मध्यम दर्जे के उद्योगों को आगे बढ़ा सकते हैं। जिनके लिए यह देव भूमि और समस्त उत्तराखंड उपयुक्त है। बस हमें क्षेत्र हित में उन पर गौर करने, उन्हें ढूंढने, समझने और उनके लिए अवसर उपलब्ध कराने हैं। शासन-प्रशासन की योजनाओं से लाभ उठाना है तथा उसे नागरिकों तक पहुँचाना है। ताकि हमारा उत्तराखंड बुलंद और भव्य बन सके।



बेमिसाल गढ़वाल के लिए यह जिम्मेदारी आइए, हम सब मिलकर उठाते हैं। नए आइडिया देते हैं। परम्परागत उद्योगों को आगे बढ़ाते हैं। उन्हें तकनीकी सहयोग देते हैं। देश-दुनिया में उन्हें पहुँचाते हुए कारोबार की दुनिया में हो रहे बदलाव दिखाते हैं, बताते हैं। यहाँ या दूर बैठे गढ़वाल हितैषियों को यहाँ उद्योग लगाने को प्रोत्साहित करते हैं।

बेमिसाल प्रयास...
बुलंद उत्तराखंड और बेमिसाल गढ़वाल अभियान को और गति देते हुए, युवाओं के लिए करियर काउंसलिंग, ग्रामीणों के लिए बेमिसाल क्लीनिक के बाद अब पशुधन व दुग्ध उत्पादक किसानों के हित में धर्मा लाइफ के सौजन्य से पौड़ी में आयोजित हुआ ट्रेनिंग कार्यक्रम । जिसमें दुग्ध उत्पादकों को मिले नए-नए टिप्स. डेरी उद्योग को बढ़ावा देते हुए सीखने को मिले आधुनिक व वैज्ञानिक तौर-तरीके । साथ ही विशेषज्ञों से जानी डेयरी वैल्यू-चैन की बातें और पाई उपलब्ध सरकारी, गैर सरकारी सुविधाओं की भी जानकारी ।
ब~ शौर्य डोभाल, बुलंद उत्तराखंड को समर्पित