मिस्ड कॉल नंबर: 84079 70909
Client
अरुण गोस्वामी, दिल्ली
फिर आऊंगा खिरसू

खिरसू की सुबह बेहद यादगार और मनोरम थी. नींद जल्दी खुली, कुछ अनजान से कोलाहल के बीच, चिड़ियों की चहक के साथ. बाहर निकला तो स्तब्ध. गढ़वाल मंडल के गेस्ट हाउस के आँगन में कुछ दुर्लभ पक्षी उछल-कूद रहे हैं. सामने निगाह पड़ी, हिमालय की बर्फीली चोटियां पूर्व की दिशा में सोने में रंगी हैं, सूर्यदेव के प्रकाश ने क्या मनमोहक दृश्य बना दिया है. घाटी में अभी भी हल्का अँधेरा पसरा है किन्तु निकट दृष्टि में महकते पुष्प, लहराते वृक्ष और ऊपर से ये चिड़ियों का मधुर गान ...वाह खिरसू! पौड़ी से मात्र २० किलोमीटर और श्रीनगर से ३१ किलोमीटर दूर. कितनी बार उत्तराखंड आया किन्तु ऐसी शांत, एकांत मनोरम जगह, समस्त सुविधाओं के बीच, अपेक्षा नहीं की थी.